Thursday, 2 November 2017

"हर घड़ी बदल रही है रूप ज़िंदगी
छाँव है कभी, कभी है धूप ज़िंदगी
हर पल यहाँ जी भर जियो...."


सालगिरह मुबारक़ बॉलीवुड 'बादशाह'
 शाह रुख़ खान!

- मनोज कुलकर्णी 

('चित्रसृष्टी', पुणे)

No comments:

Post a Comment